Power of mind||दिमाग की कुछ अद्भुत शक्तियाँ||

दोस्तों दिमाग हमारे शरीर का एक ऐसा अंग है जिसके काम करने का तरीका शायद हम कभी ना समझ पाएं।और इसी वजह से ये अंग ऐसे हैरत अंगेज कारनामे कर दिखाता है कि कभी कभार हमें खुद के दिमाग की काबिलियत से डर लगने लगता है। कभी कभार ऐसा लगता है कि हम दिमाग को नही दिमाग हमे कन्ट्रोल कर रहा है ।
चलिए जानते है पाँच ऐसे अदभुत कारनामे जो हमारा दिमाग करने की काबिलियत रखता है और यही कारनामे हमारे दिमाग के लिए ख़तरनाक भी हो सकते है ।इस artical को आखिरी तक पढ़िए क्योंकि हर एक बात आपको पहले से ज्यादा चौक देगी ।

5-False Memory

दोस्तों आपको आपकी जिंदगी की सबसे पहली याद क्या है ।मेरा मतलब आपके बचपन की सबसे पहली याद ,हो सकता है आपको आपकी ये याद किसी के साथ घूमने की हो ,किसी हादसे की हो या फिर ऐसी कोई भी बात जो आपको लगता है कि अपने बचपन मे की थी ।अगर कोई है तो उसे तुरंत अभी फिर से याद करिए, पर याद रखिये की ये आपकी सबसे पहली याद हो ।

आपके पास 5 सेकेण्ड है ।1।।।।।।2।।।।।।3।।।।।।4।।।।।।5।कर लिया ? चलिए अब आपको एक चौक देने वाला fact बताते है।वो ये की 95℅Chance ये है कि आपकी वो याद झूठी है ।यानी कि आपने ऐसा कुछ किया ही नही था जो आपको याद आ रहा है ।कई लोग दावा करते है कि उन्हें तबकी भी कुछ बातें याद है जब बो सिर्फ 1/2 साल के थे।असलियत में बच्चों की याद 2 साल के बाद ही टिकना शुरू होती है और वो भी जल्द ही गायब हो जाती है।तो आखिर वो क्या था वो आपके घर वालो के द्वारा सुन सुनाकर बनाली गई एक Fake Memory थी।दिमाग कभी भी आपके अंदर एक ऐसी Fake Memory बना देता है जो कभी हुई ही नहीं थी।
कभी कभार किसी बड़े हादसे के बाद ,असल मे क्या हुआ था इसकी Fake Memory आपका दिमाग बना देता है।वैसे आपकी वो पहली Memory क्या थी हमें Comment करके जरूर बतायें।।

4-Super Memory

हर बार जब आप अपने Course की Book पढ़ते होंगे तो सोचते होंगे कि अरे यार कुछ याद ही नही हो रहा ।हमारे दिमाग की चीजें Store करने की क्षमता आपकी उम्मीद से भी अरबों गुना ज्यादा है।2016 में साइंटिस्टों ने एक चूहे के दिमाग को ये जानने के लिए खंगालना चालू कर दिया कि आखिर इंसानी दिमाग की Store करने की शक्ति कितनी है।इस चीज को पता करने के लिए दिमाग के एक एक न्यूरॉन को गिनने की जरूरत थी।न्यूरॉन ही वो कण होते है जिनमे हमारे दिमाग की स्टोर करने की शक्ति होती है,चूहे के छोटे से दिमाग के न्यूरॉन गिनने में भी करीब 1 साल का समय लग गया। न्यूरॉन इतने छोटे होते है कि जितना आपका एक बाल है उतने में तो 30न्यूरॉन आ जाएंगे।एक न्यूरॉन हर एक चीज को 26 तरीके से Store कर सकता है,अगर इसे Computer की भाषा मे समझाया जाए तो इंसानी दिमाग करीब 1 Pitabite Memory Store कर सकता है यानी कि करीब 10 लाख GB और आप अपने 32GB के फ़ोन से ही ख़ुश है।आपकी Memory इतनी बड़ी है कि पूरा का पूरा Internet इसमें समा जा सकता है,और हैरानी की बात तो ये है कि हमारा दिमाग काम करने के लिए सिर्फ 20Volte ही बिजली खाता है।अगर इतनी Memory के लिए कोई कंप्यूटर बना भी लिया गया तो उसे Power देने के लिए पूरा का पूरा एक Nuclear Power Station लगेगा

3-Hipno Peeria

दोस्तो कितना अच्छा होता कि अगर आप नींद में भी चीजे सीख पाते ,यानी कि सोते सोते मैं Guitar सीखने की CD लगा लेता और सुबह उठ कर Concert पे बजाने लगता,पर आपको ये जान कर हैरानी होगी कि दिमाग ये करने की काबिलियत भी रखता है।यहाँ तक कई ऐसे Products भी आगये है जो नींद में आपको काफी कुछ सीखा देंगे ।इसका मतलब ये नहीं कि रातो रात आप कराटे Campion या Piano बजाना सीख जाएंगे।

असल मे कुछ साल पहले तक यही सोचा जाता था कि आपको याद करने के लिए जागना जरूरी है।पर Hipnopidia की ये Technology आपकी कई आदतें छुड़ा सकती है। Israil की एक Study में सिगरेट पीने वाले कई लोगों को रात में सोते वक्त सिगरेट की Smell के साथ बदबू सुंघाना चालू कर दिया ,कुछ दिनों बाद उस Study में मौजूद ज्यादा तर लोगों ने कुछ हफ्तों के लिए सिगरेट पीना ही छोड़ दिया।यानि कि 2017 से ये तय होगया था कि हमारा दिमाग इतना शक्तिशाली है कि सोते सोते भी चीजे सीख सकता है,पर ये चीजें दिमाग को सिखानी कैसे है ये सीखने में तो अभी कई साल लग जाएंगे।पर अगर ऐसा Possible हो जाए तो आप सोते सोते क्या सीखना चाहेंगे ,हमें Comment करके जरूर बताएं।।

2-Epigenetics

Science की एक Epigenetic Studyके अनुसार पिता की कुछ यादें बच्चे के दिमाग मे Automatically Transfer हो जाती है जैसे कि पापा की पसंद न पसन्द उनके खाने पीने की चीजें,उनका Faverate Music, खुशबू इत्यादि ।यानी कि आपकी आज की यादें आपकी कई पीढ़ियों तक फैली जा सकती है पर आखिर दिमाग आपके ख़यालों को ऐसा कैसे Transfer कर पाता है।माना जाता है कि इंसानी दिमाग Sparm बनाते वक्त कुछ यादे उसके साथ बंडल कर देता है,ये Sparm जब बच्चे के रूप में बदलता है तो बंडल हुई ये यादे भी उस बच्चे के दिमाग मे घर कर जाती है।अपने जरूर देखा होगा कि आपकी कुछ पसन्द या न पसन्द आपके पापा से जरूर मिलती होंगी||

1-Prothestic Memory

दोस्तों चलिए शार्ट में बताते है कि Memory कैसे बनती हैजब आपके दिमाग को कोई चीज याद रखनी होती है तो वो आपके दिमाग को ही Singnal भेजता है।जिससे वो न्यूरॉन Activate होकर चीजे Store करना चालू कर देता है।पर आपका दिमाग नई चीजों को पुरानी के ऊपर Store करना चालू कर देता है इसी वजह से आप कई नाइ चीजे याद करते है और वहीं कई पुरानी भूल भी जाते है।
यही Concept आता है Prothestic Memory का ।यानी कि science द्वारा बनाई गई यादें अगर आपके दिमाग मे डाल दी जाएँ तो आपको बिल्कुल ऐसा ही लगेगा कि वो घटना या वाक्या आपके साथ कभी हुआ था।इसी तरह अगर आपके दिमाग मे Kashmir घूमने याद डाल दी जाए तो आपको ऐसा लगेगा कि आप सच मे वहां गए थे|

ऐसा कर पाना तभी सम्भव है जब इंसानी दिमाग के कुछ न्यूरॉन को Particular Type के चार्ज या सिंगनल भेजे जाएं।वैसे तो ये Mind Control वाली बात हो गई लेकिन ये भी हमारे दिमाग का फंगशन जानने के लिए जरूरी है।ऐसा कर पाना अभी मुश्किल इस लिए पढ़ रहा है क्योंकि हमारा दिमाग ऐसी किसी भी Memory को झट से पकड़ लेता है।और उसे नष्ट कर देता है।यानी कि हमारा दिमाग अपनी सुरक्षा करना अच्छे से जानता है।
तो देखा आपने कि छोटा सा ये दिमाग कैसे दुनिया चलाने की काबिलियत रखता है ||

Leave a Comment